संदीप माहेश्वरी युवाओं के लिए प्रेरक और काफी जाना माना नाम और साथ ही भारत के शीर्ष उद्यमियों में तेजी से बढ़ने वाले नामो में से एक है। उनके एक कंपनी imagesbazaar.com जिसके वो सीईओ हैं देखते ही देखते कुछ समय में उनकी कंपनी भारत की बड़ी फोटोग्राफी एजेंसी बन गई। इसका पूरा श्रेय वो अपनी रचनात्मकता को मानते है जिसके कारण यह संभव हो सका।
इमेज बाजार भारत की एक बड़ी साइटों में से एक है जिसमे चित्र सहेजे जाते हैं।

Meaning_of_life_Sandeep_Maheswari

साथ ही वो एक लोकप्रिय यूट्यूबर भी है. उनके विचार भीड़ से कुछ अलग होने के लिए कारण युवा काफी पसंद करते हैं।
जीवन का उद्देश्य क्या हैं जिसके बारे में उन्होंने अपने सेशन में काफी बार चर्चा की है। उनके अनुसार जीवन का उद्देश्य कोई और नहीं, वो तो हम ही देते है अलग अलग जैसे कि बिज़नेस मैन के जीवन के उद्देश्य कुछ और, एक राजनेता के उद्देश्य कुछ और यानि कि हर कोई अपने जीवन उद्देश्य को खुद ही निर्धारित कर रहा है।

Meaning_of_life_Sandeep_Maheswari

अगर हम दूसरे पहलू से देखे कि जीवित रहना ही हमारे लाइफ का उद्देश्य है तो हम सब में और जानवरों में क्या फर्क है। अगर हम खुद अपने जीवन के उद्देश्य निर्धारित नहीं करेंगे तो ये दुनिया जाने या अनजाने में हमारे लिए निर्धारित कर देगी जैसे कि हमारे माता पिता कुछ और कहेंगे कि आपको जीवन में यह करना है या हमारे सहयोगी कुछ और कहेंगे।

जैसा कि हम सब जानते है कि सबसे बुनियादी स्तर पर हमारे जीवन का उद्द्देस्य होता है जीवित रहना अगर यह उद्देश्य हम आसानी से पूरा कर पा रहे है यानि कि हमारे पास वह जरूरी संसाधन है जो इसे पूरा कर सके तो हमारे उद्देश्य समय के साथ बदल जाते  है जैसे कि जीवन में कुछ सफलताएँ हासिल करने का उद्देश्य, अपनी एक पहचान बनाने का उद्देश्य आदि यानि कि कभी ना ख़तम होने वाली उद्देश्य कि भावना।  कभी कुछ हासिल कर पाए तो जीत और न कर पाए तो एक पल में हार। क्या यही जीवन का उद्देश्य है।

Meaning_of_life_Sandeep_Maheswari_

इस समाज में अगर जीत भी गए तो लोग पीछे लाने कि कोशिश करेंगे यानि कि आपका लक्ष्य पूरा नहीं होने देंगे इसका मतलब हम हर स्थिति में मारे जायेंगे। तब हम क्या करे।
सबसे पहले हमें अपनी उस बायोलॉजिकल मनोस्थिति को समझना होगा कि हम खुद को उन बंदरों से अलग समझते है जैसे कि हमारे पूर्वज थे । हम ऐसा मानते है कि हमारे पास कुछ सुपरपावर है कि हम कुछ अलग सोच सकते है? क्या ये सुपरपावर हमें अंदर ही अंदर मार नहीं रही है। क्या हमारे सारे दुखों की जड़ ये हमारे विचार ही नहीं है?

Meaning_of_life_Sandeep_Maheswari

इसे हम ध्यान की शक्ति, जिसे हम साउंड ऑफ़ साइलेंस के नाम से जानते हैं
एक ऐसी स्थित जिसके बाद जीवन में कोई उद्देश्य, कोई आकांक्षाएं नहीं बचती है सभी क्रियाएँ अपने आप हो रही होती है बिना कुछ करे।

ऐसी स्थिति में हम इंसान, जानवरों से अलग हैं क्योंकि हम यह एहसास कर सकते हैं कि ये यूनिवर्स सब हमारे अंदर ही है वर्तमान भविष्य सब आप में है। दुनिया कि कोई ताकत आपको रोक नहीं सकती वो भी आपके कुछ प्रयत्न किये बिना।

वीडियो :

पॉडकास्ट:

Releated: कौन जाने